Red Fort Of Delhi For General Knowledge

Let’s read interesting about red fort of delhi….

लाल किला भारत की राजधानी दिल्ली में एक ऐतिहासिक स्मारक है।

लाल क़िले में शान से लहराता तिरंगा देश की स्वतंत्रता का प्रतीक है।

शाहजहाँ ने अपनी राजधानी शाहजहानाबाद के लिए महल को क़िले के रूप में बनवाया।

यह शाहजहाँ का मुख्य निवास स्थान था।

शाहजहाँ ने लाल क़िले का निर्माण कार्य 13 मई 1638 को शुरू करवाया था।

जब शाहजहाँ ने अपनी राजधानी को आगरा से दिल्ली में बदलने का निर्णय किया।

ऐतिहासिक स्मारक लाल क़िले की रुपरेखा को वास्तुकार उस्ताद अहमद लाहौरी ने तैयार किया था।

ताज महल का भी निर्माण काम उस्ताद अहमद लाहौरी ने ही किया था।

red fort of delhi

ऐतिहासिक स्मारक लाल क़िले को वर्ष 2007 में  विश्व धरोहर की सूचि में शामिल किया गया है।

लाल किला भारत का प्रमुख ऐतिहासक स्मारक  है।

रेड फोर्ट भी ताजमहल और आगरा क़िले के तर्ज पर ही यमुना नदी के किनारे बनवाया गया है।

ऐतिहासिक स्मारक लाल किला का निर्माण कार्य वर्ष 1648, 10 वर्ष तक चला

शाहजहाँ द्वारा बनवाया गया ताज महल भी सौंदर्य और आर्कषण का केन्द्र है ।

दिल्ली का लाल किला भी पुरे विश्व में सौंदर्य और आर्कषण के लिए जाना जाता है।

पुरे विश्व से पर्यटक लाल क़िले को देखने के लिए आते हैं।

लाल क़िले को मुगल, हिंदू और फारसी स्थापत्य शैली से मिलकर बनाया गया है। लाल क़िले के अंदर के परिसर के भीतर मुख्य ऐतिहासिक इमारतें – 

red fort of delhi
दीवान–ए–आम

 छाबरी बाजार          – मोती मस्जिद   

लाहौरी गेट                – दिल्ली गेट        

– रंग महल                    मुमताज महल   

दीवानआम       – दीवाने खास

मोती मस्जिद           – मुमताज महल

–  नौबत खाना           – खस महल

हीरा महल               –  चट्टा चौक        

मोती मस्जिद, नौबत खाना जैसी बड़ी इमारतें जो कभी संगीत कक्ष हुआ करती थी। मुमताज़ और रंग महल, महिला के लिए और एक संग्रहालय भी था, यहाँ पर मुग़ल काल की सभी कलाकृत मौजूद है। कोहिनूर हीरा जैसे कई अनमोल रत्न कभी लाल क़िले की सजावट का हिस्सा हुआ करता था। लेकिन भारत में कब्ज़ा करने के बाद अंग्रेज कोहिनूर हीरा ले गए थे। ऐतिहासक स्मारक लाल क़िले के निर्माण में मुगल शासक शाहजहाँ ने लाल बलुआ पत्थरों का इस्तेमाल करवाया था, इसलिए इसका नाम लाल किला  पड़ा

मुगल शासकों ने लगभग  250 एकड़ जमीन में फैला लाल क़िले पर 200 सालो तक  राज किया।

वर्तमान में लाल किले को भारतीय पुरात्तविक संरक्षण संस्थान द्वारा संरक्षित किया जा रहा है। 

red fort of delhi
लाहौरी गेट

साल 1758 में मराठाओ ने लाहौर पर सत्ता कायम की और 1760 में मराठाओ ने राजस्व बढ़ाने के लिए दीवान-ए-खास की चाँदी की छत को हटा दिया।

क्योकि अहमद शाह दुर्रानी की सेना को पराजित करने के लिए मराठाओ को ज्यादा राजस्व की आवश्यकता थी और 1761 में मराठाओ पानीपत की तृतीय युद्ध को हार गए थे।

अहमद शाह दुर्रानी ने दिल्ली पर आक्रमण कर दिया। 10 बरस बाद शाह आलम ने मराठाओ की मदद से दिल्ली पर सत्ता को हासिल कर लिया।

 

 1803 में ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी ने मराठाओ को  युद्ध में हरा दिया और लाल क़िले से मराठाओ की सत्ताओ को समाप्त कर दिया। युद्ध के बाद ब्रिटिश ने लाल क़िले को अपने अधीन ले लिया था।

आज़ादी के बाद भारत के पहले प्रधानमंत्री बने जवाहरलाल नेहरु ने 15 अगस्त 1947  को लाहौर गेट पर भारतीय ध्वज फहराया था।

तब से 15 अगस्त को स्वतंत्रता अवसर पर भारत के प्रधानमंत्री लाल क़िले पर ध्वजारोहण करते हैं। जिसे प्रसारित भी किया जाता है।

Thanks for reading about red fort of delhi.

Also Read…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *